रानी मुखर्जी एक ऐसी अदाकारा है। जिन्होंने अपने जीवन में सफलता के सर्वोच्च शिखर को महसूस किया है। ना केवल फिल्मों बल्कि पारिवारिक जीवन में भी वह भाग्यशाली रही है।

जैसा की मैंने अपने पिछले लेख में कहा है कि हर व्यक्ति का कोई एक ग्रह ऐसा होता है। जो बार बार जीवन में अपनी उपस्थिति दर्ज कराता है। रानी मुखर्जी के जीवन में अंक 3 का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। यदि आप उनकी जन्म तारीख देखें उनके जन्म की तारीख है 21। इन दोनों अंको को जोड़ें तो अंक-3 आता है। इसके पश्चात तीसरे महीने में यानी मार्च में उनका जन्म हुआ (21-3-1978)। अंक 3 ने उनके जीवन में जब भी दस्तक दी है इनके जीवन को एक नई दिशा मिली है।

उनके पति का नाम आदित्य चोपड़ा है जिन्हें पहचान की कोई आवश्यकता नहीं है। वे एक जाने माने निर्माता निर्देशक हैं। उनकी जन्म तारीख भी 21 है (21-5-1971)। 

इत्तेफाक से इन दोनों की शादी की सालगिरह की तारीख भी 21 है (21-4-2014)

अब इतने सारे इत्तेफाक यदि एक ही इशारा करें कि इनका यह लकी नंबर है। तो एक नजर आपको इनकी सफल फिल्मों पर भी डालनी चाहिए।

इनकी अधिकतर फिल्मों की तारीखें या तो अंक 3 से विभाजित हो जाती है या यह सफल फिल्में अंक 3 के मित्र अंक हैं।

कुछ समय पहले इनकी एक फिल्म Koi Mil Gaya आई थी यदि आप इस फिल्म की तारीफ के अंकों को आपस में जुड़े तब भी नंबर 21 आता है।

इतने सारे संयोग क्या यह इशारा नहीं करते कि इनके जीवन में वृहस्पति के अंक नंबर 3 मैं अपनी आवृत्ति बार बार की है।

आइए जानते हैं अंक 3 का क्या महत्व है। इनके जीवन में 21 तारीख 21 का अंक बार-बार क्यों आया और उसने इन्हें इतनी सफलता क्यों दी।

नंबर 21 में चंद्रमा, सूर्य और गुरु इन तीनों ग्रहों का योगदान है। और इनकी जन्म कुंडली के यह तीनों ग्रह विशेष रुप से बली है। इन तीनों ग्रहों के मेल से यही पता चलता है कि सूर्य चंद्र और गुरु इनके जीवन में जब भी तारीख बनकर आए अपना प्रभाव छोड़ गए।