Home » Horoscope » Hindi » कुंडली में कायापलट
Kayapalat - कायापलट

कुंडली में कायापलट

कायापलट का अर्थ यहाँ पर जीवन बदलने से है | कोई व्यक्ति बहुत समय से परेशान चला आ रहा है अचानक उसकी परेशानियों का अंत हो जाए और सब कुछ अच्छा होने लगे तो इसे कायाकल्प का नाम दिया जा सकता है | हर व्यक्ति के लिए कायाकल्प के मायने अलग हो सकते हैं | कायापलट शारीरिक रूप से हो सकता है या फिर कायापलट सामजिक भी हो सकता है | आर्थिक रूप से भी कायापलट हो सकता है | कुल मिलाकर यह कहा जाए कि यदि आपके जन्मांग चक्र में कायापलट का योग है तो अवश्य आप इसकी उम्मीद कर सकते हैं | कब होगा कैसे होगा इसकी जानकारी के साथ मैं अशोक प्रजापति इस पोस्ट पर आपके Response का स्वागत करूंगा |

शारीरिक कायापलट

भाग्येश या भाग्य स्थान में बैठा ग्रह महत्वपूर्ण होता है | किसी कारण से यदि आप बहुत अधिक मोटे या पतले हैं और प्रयास कर रहे हैं की आपकी सेहत और रूप में बदलाव आये तो आपके नौवें घर में बैठा ग्रह या नवमेश आपकी इच्छा को पूरा कर सकता है |

यदि नवमेश की दृष्टि लग्न पर हो और नवमेश और लग्नेश में जो बलवान हो उसकी दशा में दुसरे ग्रह की अन्तर्दशा आ जाए तो शारीरिक रूप से आप की कायापलट हो सकती है |

बीमारी से ग्रस्त हैं और लम्बे समय से ठीक होने का इन्तजार कर रहे हैं तो शुभ ग्रह की दृष्टि लग्न पर होनी अनिवार्य है | उसी शुभ ग्रह की दशा अन्तर्दशा में आप बीमारी से मुक्ति पा सकेंगे |

लग्नेश और भाग्येश इन दोनों ग्रहों के बीज मन्त्रों का चालीस दिन तक जप करने से आप शारीरिक रूप से सुधार की उम्मीद कर सकते हैं | मन्त्रों में शक्ति निहित है इस में कोई संदेह नहीं है | केवल आपका भाव और उच्चारण सही होना चाहिए |

आर्थिक कायापलट

लम्बे समय से यदि आप धन सम्बन्धी समस्याओं का सामना कर रहे हैं | कभी बजट संतुलित हुआ ही नहीं है | हर महीने आपकी पगार पर दृष्टि होती है की इस महीने तो कुछ नहीं बचा अगले महीने अवश्य कुछ न कुछ बचत हो जायेगी परन्तु होता फिर वही है |

यदि भाग्येश के साथ या भाग्य स्थान में कोई शुभ ग्रह बैठा है या फिर भाग्येश ही शुभ ग्रह होकर अकेला या शुभ ग्रह के साथ हो तो कायापलट के लिए उसकी दशा अन्तर्दशा का इन्तजार कीजिये |

love marriage predictio

भाग्येश का धनेश के साथ सम्बन्ध हो और दोनों की दशा अन्तर्दशा आ जाए तो निस्संदेह आपकी किस्मत में भारीअंतर आने वाला है ऐसा समझना चाहिए | फिर भी जो भाग्य में नहीं है उसे प्राप्त करने के लिए आप मन्त्र प्रयोग कर सकते हैं | भाग्येश और धनेश के बीज मन्त्रों का प्रयोग बिना मुहूर्त देखे ही शुरू कर दीजिये | अवश्य कायापलट होगा |

सामाजिक कायापलट

यदि आप बहुत ही साधारण इंसान हैं और आपका सम्पर्क क्षेत्र काफी सीमित है तो यह बहुत चिंता का विषय है | क्योंकि मनुष्य एक सामजिक प्राणी है और एक इंसान की दुसरे को जरूरत पड़ती रहती है | प्रभावशाली व्यक्तित्व यदि न हो तो दुसरे आपका फायदा उठा सकते हैं | आप लोकप्रिय होना चाहते हैं परन्तु कब ऐसा समय आएगा जब आपका नाम समाज में गणमान्य लोगों में गिना जाएगा |

यदि आप इस विषय में गम्भीर हैं तो कुंडली में राहू और चतुर्थ भाव को देखिये | इन दोनों स्थानों के स्वामी ग्रह और इन दोनों स्थानों में बैठे ग्रहों के कारण ही व्यक्ति समाज में नाम कमाता है | चतुर्थेश और नवमेश के मन्त्रों का एक साथ जप आपको लोकप्रिय बना देगा | अधिक नहीं तो कम से कम आपका व्यक्तित्व प्रभावशाली बनेगा और आपका प्रभाव दूसरों पर पड़ेगा |

निष्कर्ष

कायाकल्प के मायने जो भी हों जीवन में बदलाव आता है | समय सदा एक सा नहीं रहता | भाग्य बदलते देर नहीं लगती | फिर कर्म तो है ही आपके वश में | यदि मनुष्य चाहे तो अपनी कायाकल्प के रास्ते मिल भी जायेंगे और कायाकल्प हो भी जायेगी |

सभी ग्रहों के बीज मन्त्र आप हमारी वेबसाइट  www.allmantras.com से प्राप्त कर सकते हैं |

About creativehelper

Leave a Reply

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 55 other subscribers

Hours & Info

WpCoderX